All the things related to TRP are present here-Hindi

TRP Kya Hota He

T.R.P  क्या है टीआरपी इससे जुड़ी तमाम बातें

TRP यानी television rating point भारत में घरों तक चैनलों की पहुंच का आकलन करने के लिए यही सिस्टम काम करता है टेलीविजन ऑडियंस मैनेजमेंट यानी टैम मीडिया रिसर्च के चुने गए शहरों के कुछ स्थानों पर टीवी सेट के साथ टीआरपी मीटर लगाए हैं 

यह मीटर जो मिनी कंप्यूटर और मॉडर्न की तरह होता है जो सैंपल टीवी पर चलने वाली सभी चरणों के शुरू होने और बंद होने की जानकारी दर्ज कर लेता है

 इसी रिकॉर्डिंग के विश्लेषण के आधार पर जो एजेंसी तय कर पाती है कि किस चैनल को दर्शकों ने किस समय से कितना देर तक देखा है इसी तरह सभी जगह के आंकड़े का आकलन कर यह एजेंसी यह बताती है कि किस चैनल के किस कार्यक्रम को कितने प्रसादी दर्शकों ने देखा है 

हर हफ्ते एजेंसियां इस तरह के आंकड़े को जारी करती है इस टीआरपी रेटिंग से चैनलों को पता चल जाता है कि उसका कौन सा कार्यक्रम कितने प्रतिशत लोगों में पसंद किया गया या उसकी पहुंच कायम हो पाई है

2233
टीवी न्यूज़ चैनलों के अलावा मनोरंजन चैनलों पर चलने वाले कार्यक्रमों के आंकड़े भी इसी तरह जारी किए जाते हैं टैम मीडिया रिसर्च दरअसल नीलसन इंडिया और कंटर मार्केट रिसर्च का संयुक्त उपक्रम है टाइम मीडिया रिसर्च को ही संचित रूप में 10 के नाम से जाना जाता है

 चैनलों की लोकप्रियता को लगातार आंकने का यह काम 10 मुख्य रूप से विज्ञापन दाताओं की संस्था " इंडियन सोसायटी ऑफ एडवरटाइजर्स " ,एडवरटाइजिंग एजेंसी एसोसिएशन ऑफ इंडिया और "इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फेडरेशन" के लिए करता है.



1998 में इसके गठन के बाद से यह एजेंसी इस काम में जुटी है इसका दावा है कि देश के 225 शहरों में इसके 36000 से ज्यादा लोग हैं जिनसे यह सूचना हासिल करता है

 इसके अलावा एक लाख से ज्यादा की आबादी वाले शहरों और एक लाख से कम आबादी वाले कुछ अर्ध ग्रामीण इलाकों में लगभग 1000 मीटर लगे हैं जिन से मिली सूचना के आकलन के बाद यह टाइम रेटिंग जारी करता है फिलहाल टेलीविजन चैनलों और उसकी कार्यक्रमों की लोकप्रियता मापने का यही पैमाना काम करता है

 हालांकि इसकी प्रमाणिकता को लेकर सवाल भी उठाए जाते हैं इस व्यवस्था का आलोचना करने वालों का तर्क है कि केवल कुछ शहरों में टीआरपी मीटर लगाकर इसकी सही जानकारी हासिल नहीं की जा सकती है कई राज्यों और कई शहरों में टीआरपी मीटर नहीं लगे हैं ग्रामीण क्षेत्रों में तो यह लगभग नहीं है जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में भी आरटीआरपी की अच्छी पहुंच है

2233

 ऐसे में किसी चैनल और उसकी कार्यक्रमों की लोकप्रियता का अंदाजा इसके जरिए लगाना तर्कसंगत नहीं यही वजह है कि इसे और भी अधिक प्रमाणिक बनाने की कवायद शुरू की गई है भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने भारतीय दूरसंचार नियामक आयोग को यहां इस बारे में एक बेहतर व्यवस्था बनाने का सुझाव दिया है 

बरहाल टीआरपी की मौजूदा व्यवस्था के तहत ही सभी चैनलों फिलहाल नंबर वन की रेस में बने रहना चाहते हैं और इसलिए हर हफ्ते आने वाली टीआरपी को लेकर न्यूज़ रूम के सीनियर के बीच एक खास तरह की उत्सुकता और कुछ हद तक तनाव का माहौल रहता है इस रेटिंग से उन्हें यह अंदाजा भी हो जाता है कि लोग किस तरह के बुलेटिन पसंद करते हैं

 हफ्ते का कौन सा बुलेटिन दर्शकों की खास पसंद रहा दर्शकों की इस पसंद नापसंद के आधार पर चैनल पर बुक और प्रोग्राम पढ़ो दूसरों को आगे की रणनीति तय करने में भी आसानी होती है यह रेटिंग एक तरफ न्यूज़ चैनलों के संपादकीय विभाग को अपने कार्यक्रमों की लोकप्रियता में मदद करती है वही मार्केटिंग विभाग इसकी आधार पर अपने विज्ञापन दाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश करता है
2233

 चैनलों पर अक्सर इसी रेटिंग के दबाव में मूल खबर से हटकर लोकप्रिय और हल्की-फुल्की कार्यक्रम चलाने के आरोप लगते हैं क्रिकेट और फिल्म से जुड़े बुलेटिन के अलावा अपराध और कॉमेडी से जुड़े कार्यक्रम दिखाने के पीछे चैनलों का मकसद टीआरपी हासिल करना ही माना जाता है

 एक सर्वेक्षण के मुताबिक हिंदी न्यूज़ चैनलों पर और कानून व्यवस्था से जुड़ी खबरों का दर्शक वर्ग सबसे बड़ा है 2010 के आंकड़े के मुताबिक हिंदी न्यूज़ चैनलों के 26 फ़ीसदी तक ऐसे समाचार और कार्यक्रम देखते हैं इसके बाद खेल के दर्शकों की तादाद लगभग 16 फ़ीसदी बताई गई है

 इसकी तरह मनोरंजन से जुड़ी खबरें और कार्यक्रम 14 फ़ीसदी लोग पसंद करते हैं सियासी और सरकार से जुड़ी खबरों में 13 फ़ीसदी लोगों की दिलचस्पी होती है जबकि सामाजिक विषयों और अन्य दर्शकों की तादाद 9 फ़ीसदी आंकी गई है

 किसी तरह की दुर्घटना या सरकारी तंत्र की विफलता वाली स्टोरी 5 फ़ीसदी लोगों में पसंद की जाती है तो ज्योतिष और मौसम की खबरों और कार्यक्रमों में 4 फ़ीसदी लोगों की है यह भी बताता है कि 2010 में टीवी के दर्शकों को देखने वाले का अनुपात केवल 8 फ़ीसदी तक था.

2233

प्रिय पाठकों आपको यहां पोस्ट अच्छा लगे तो सब्सक्राइब कीजिए कमेंट बॉक्स में उन्हें सुझाव लिखिए और बताएं आपको किस तरह की पोस्ट पसंद है हम आपकी मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं आपको अगर यह अच्छा लगे तो शेयर कीजिए सब्सक्राइब कीजिए और कमेंट कीजिए धन्यवाद.
2233