Meena Rana Gadwali Singer,meena rana village

Meena Rana Gadwali Singer



गढ़वाल की लोकप्रिय गायिका मीना राणा के संगीतमय  जीवन की सुरुवात 

उत्तराखण्ड की आन बान और सान जिसके मधुर स्वर ने यहाँ के हर एक व्यक्ति को अपना दीवाना बनाया है ऐसी हे मीना राणा जी जिनकी हर एक एल्बम का दर्शकों को बेसब्री से रहता हे इंतजार आये जानते है उनके बारे में कुछ अनकही बातें।
उत्तराखण्ड एक ऐसा राज्य हैं जहां की धरती देव भूमि कहलाती है और इस  धरती ने भारत को अनेक कलाकारों का जन्म दिया  है और उत्तराखंड के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन त्यागा है उनमे से एक सुप्रसिद्ध लोक गायिका मीना राणा जिनकी स्वर की मधुरता हर एक उत्तराखण्ड वाशी के  दिल में बसती  है। जिनको उत्तराखण्ड की  स्वर कोकिला भी कहा जाता हे लत्ता मगेशकर के बाद इनका ही नाम आता है। 

मीना राणा का जन्म शनिवार 24 मई 1975 को दिल्ली में हुवा था जो एक गढ़वाली परिवार था हालांकि इनके माता पिता के बारे मैं ज्यादा जानकारी नहीं है  इनका जीवन काफी शंघर्ष मय था इन्होने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बटलर मेमोरियल गर्ल्स सीनियर सेकंडरी स्कूल दिल्ली से किया। उश्के पस्चात वह अपनी बहिन उमा के साथ मसूरी में रहने लगी और वहाँ से फिर आगे की पढ़ाई मसूरी इण्टर कॉलेज से पूरी किया जब इनकी स्कूली शिक्षा पूरी हुई तो उश्के बाद स्नातक उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से पूरी की। 

सुरु किया मीना सिंह राणा जी ने अपना करियर 


मीना राणा जी ने अखण्ड तपस्या के बाद ही अपना किश्मत को आजमाया उन्होंने सर्वा प्रथम गढ़वाली फिल्म "नौनी पिछाड़ी नौनी " 1992 मै अपना सफल योगदान दिया इस फिल्म में उन्होंने तीन गानो को अपना मधुर स्वर दिया जिसके पश्चात उनकी लोकप्रियता बढ़ती रही इश्के बाद एक से बढ़कर एक एल्बम उन्होंने निकली जिनका नाम है -चाँद तारो माँ , मेरी खाती मित्र ,दरबार निराला साईं का जैसे अनेक पंक्तियों को अपना स्वर दिया। 
मीना राणा ने गढ़वाली के अलावा अन्य भाषाओ मै भी अपने गाने रिकॉर्ड किये है जैसे 

  1. गढ़वाली 
  2. कुमाऊनी 
  3. जौनपुरी 
  4. जोनसारी 
  5. भोजपुरी 
  6. राजस्थानी 
  7. करगली 
  8. लद्दाखी 


लद्दाखी में मीना राणा जी 500 से अधिक गाने लिख चुकी है मीना राणा जी ने उत्तरखण्ड मशहूर स्वर समार्ट नरेंद्र सिंह नेगी जी के साथ भी अपने स्वर दे चुकी है और इन गायको के साथ अब तक की एल्बम उनकी निकली हैं -

  1. गजेंद्र सिंह राणा 
  2. प्रीतम भरतवाण 
  3. फौजी ललित मोहन जोशी 
  4. अनिल बिष्ट 
  5. मंगलेश डंगवाल 
  6. आदी 

मीना राणा जी का दामपत्य जीवन

1 दिसम्बर 2001 को मीना राणा जी की सादी जब संजय कुमोला जी के साथ हुवा जो की मशहूर संगीत प्रोडूसर है जिनका  सुरभि मल्टी ट्रेक साऊंड स्टूडियो नाम से एक स्टूडियो है। और इसके बाद इनकी दो बेटिया हुई पहली बेटी का नाम सुरभि जो की एक गायिका है और दूसरी बेटी परी हैं। 


Gadwali Singer Meena Rana


  1. 2010 में मीना राणा जी उत्तराखण्ड सीने पुरुष्कार मिला ( पल्या गो का मोहना )
  2. 2011 में मीना राणा जी उत्तराखण्ड सीने पुरुष्कार मिला ( ओ बुलोणु यो पहाड़ )
  3. 2012 में मीना राणा जी उत्तराखण्ड सीने पुरुष्कार मिला (हम उत्तराखण्डी छा )
और भी कई पुरुस्कार मिले है जिनकी जानकारी अभी उपलब्ध नहीं है। 


मेरे प्यारे पाठको आपको ये पोस्ट केशी लगी आप मुझे कमेंट के माद्यम से बता सकते है दोस्तों इस पोस्ट को अपने दोस्तों तक अवस्य शेयर कीजिये जितना हो सके उतना अपने मित्रो तक ये महत्वपूर्ण जानकारी भेजे धन्यवाद्।