8:10:45

Mesothelioma:- Malignant Mesothelioma यह एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है।

 

Mesothelioma
Photo Source :- microbiologynotes.org

Mesothelioma:- Malignant Mesothelioma यह एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है।  जो शरीर के अनेक आंतरिक अंगों को ढंककर रखनेवाली सुरक्षात्मक परत, मेसोथेलियम, से उत्पन्न होता है। यह बीमारी एस्बेस्टस के संपर्क से होती है।

Mesothelioma अधिकांश तौर पर कांच के कण उनके शरीर में प्रवेश करने या  अन्य तरीकों से एस्बेस्टस कणों और रेशों के संपर्क में आए हों, या  कपड़े धोने के कारण भी किसी व्यक्ति में Mesothelioma विकसित होने का कारण  उत्पन्न हो सकता है।


Mesothelioma कैंसर धूम्रपान से कोई सम्बन्ध नहीं है लेकिन धूम्रपान से अन्य प्रकार के कैंसर होने का अधिक खतरा होता है।  
Mesothelioma के लक्षणों में सीने या फेफड़ो की दिवार मैं पानी भर जाना या सीने में होने वाले दर्द के कारण सांस लेने में तकलीफ तथा सामान्य लक्षण, जैसे वजन में कमी आना, शामिल हैं।

इसका पता CT स्कैन कर जाँच किया जाता है  और ऊतकों के नमूने तथा सूक्ष्मदर्शी परीक्षण से इसकी पुष्टि हो सकती है। ऊतकों के नमूने  लेने के लिये थोरैकोस्कोपी (कैमरेयुक्त एक नली को सीने में डालना) का प्रयोग किया जा सकता है।

 यह प्लुरल भाग (जिसे प्लुरोडेसिस कहा जाता है) को पोछने के लिये टैल्क (Talc) जैसे पदार्थों के प्रयोग की भी अनुमति देता है, जिससे और अधिक द्रव को एकत्रित होने व फेफड़ों पर दबाव डालने से रोका जा सके।

कीमोथेरपी, Radiation Therapy  और कभी-कभी शल्य चिकित्सा के द्वारा किये जाने वाले उपचार के बावजूद इस बीमारी का उपचार डॉक्टर्स काफी काम ही कर पाते हैं। Mesothelioma की शीघ्र पहचान के लिये स्क्रीनिंग परीक्षणों के बारे में अनुसंधान जारी है।

Mesothelioma होने के लक्षण क्या हैं।

अगर आपको आपको भी वजन घटना, जलोदर, पेट मैं सूजन, पेट मैं दर्द जैसी समस्या है तो आपको तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक है पेरिटोनियल Mesothelioma के अन्य लक्षणों में आंतों में रूकावट, खून जमने में समस्या, रक्ताल्पता और बुखार शामिल हो सकते हैं।

यदि कैंसर मेसोथेलियम से बाहर शरीर के अन्य भागों तक फैल गया हो, तो इसके लक्षणों में दर्द, निगलने में तकलीफ और गरदन या चेहरे पर सूजन आदि शामिल हो सकते हैं। जिससे आपको निम्नलिखित तकलीफ हो तो तुरंत उपचार करवाएं।

  • सीने में दर्द
  • फेफड़ों से रिसाव, या फेफड़ों के चारों ओर पानी जम जाना
  • सांस लेने में तकलीफ
  • थकान या रक्ताल्पता
  • घरघराहट, स्वर बैठना, या खांसी
  • बलगम (द्रव) में रक्त आना (हीमोप्टाइसिस)