महाविषगर्भ तेल के फायदे यह तेल आयुर्वेदिक तेल है फायदे जानकर रोज इस्तेमाल करोगे

महाविषगर्भ तेल
महाविषगर्भ तेल के फायदे

महाविषगर्भ तेल के फायदे जाने यह तेल आयुर्वेदिक तेल है महाविषगर्भ तेल के फायदे जानकर रोज इस्तेमाल करोगे महाविषगर्भ तेल के फायदे तेल एक औषधीय हर्बल तेल है जो जोड़ों के दर्द, सूजन, स्टिफनेस, मांसपेशियों में दर्द आदि के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह तेल धतूरा, कनेर, आक, विषमुष्टी, आदि के मिश्रण से बनाया जाता है यह एक जहरीला तेल है। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

महाविषगर्भ तेल का उपयोग करने से पूर्व आपको डॉक्टर की सलाह लेना अनिवार्य है यह जानकारी केवल ज्ञान वर्धन के लिए है इसका उपयोग स्वयं से न करें डॉक्टर की सलाह के अनुशार करें।

महाविषगर्भ तेल पतंजलि

महाविषगर्भ तेल सभी प्रकार के वात रोगों की प्रसिद्ध औषधि है महाविषगर्भ तेल जोड़ों की सूजन समस्त शरीर में दर्द, गठिया, हाथ-पांव का रह जाना, लकवा, कंपन्न, आधा सीसी, शरीर शून्य हो जाना, नजला, कर्णनाद, गण्डमाला आदि रोगों  मैं रामबाण इलाज का कार्य करता है। या फिर आप जात्यादि तेल के लाभ उठाएं।

महाविषगर्भ तेल बहुत बिषैला होता है इस आयुर्वेदिक तेल का निर्माण लगभग 70 से अधिक आयुर्वेदिक जड़ी – बूटियों के सहयोग से किया जाता है यह तेल बाह्य रूप से मालिश के लिए उपयोग में लिया जाता है दर्द वाले स्थान पर निरंतर मालिश से दर्द से आराम मिलता है

महाविषगर्भ तेल के फायदे

महाविषगर्भ तेल की मालिश से सब प्रकार के आम और शूलसह (दर्द करने वाले) वातरोग (Musculoskeletal Disorder), संधिवात, कटिवात (कमर का दर्द), अर्धांगवात, गृध्रसी (Sciatica), दंडापतानक आदि वातरोग तथा कर्णनाद (कान में आवाज आना), कान से कम सुनना आदि दूर होते है। वेदना को शमन करने के लिये यह उत्तम प्रयोग है।

  1.  सभी प्रकार की वातव्याधियों में विशेष लाभ दाई है संधिवात, एकांगवात एवं अर्धांगवात में इसकी मालिश से लाभ मिलता है
  2. महाविषगर्भ तेल से जोड़ो के दर्द में फायदा मिलता है
  3. महाविषगर्भ तेल आयुर्वेद चिकित्सा में विभिन्न प्रकार की वातशूल को ठीक करने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सकों द्वारा प्रयोग करवाया जाता है
  4. महाविषगर्भ तेल से मांसपेशियों के दर्द को ठीक करता है एवं रक्तपरिसंचरण को सुधरता है |
  5. महाविषगर्भ तेल गठिया, साइटिका, कमर दर्द में विशेष फायदेमंद आयल है
  6. महाविषगर्भ तेल से शारीरिक अंगो की जकड़न एवं दर्द में उपयोग करके ठीक किया जाता   है 
  7. टिटनेस में फायदेमंद

महाविषगर्भ तेल बनाने की विधि

सबसे पहले तेल को छोड़ कर समस्त सामग्री को अच्छी तरह से सुखा लें और जब सूख जाए तो बारीक पीस लें। इसके बाद एक लोहे की कड़ाही मे तेल डालकर धीमी आंच पर गरम करें। जब तेल गरम हो जाए तब थोड़ा थोड़ा करके उपरोक्त चूर्ण डालते जायें। जब सारा चूर्ण खत्म हो जाए तब कड़ाही के नीचे से आग बंद कर दे।
इसके बाद एक कपड़े मे से तेल छान ले।

जब तेल ठंडा हो जाए तब कपड़े को निचोड़ लें। इस तेल को एक बोतल मे रख ले। कुछ दिन मे तेल मे से लाल रंग नीचे बैठ जाएगा। उसके बाद उसे दूसरी शीशी मे डाल ले। इसे अधिक गुणकारी बनाने के लिए इस साफ तेल मे 25 ग्राम दालचीनी का मोटा चूर्ण डाल दे।

महाविषगर्भ तेल का उपयोग

अब जिस जगह पर दर्द हो रहा है उस स्थान पर इस तेल से 1 घंटा तक मालिश करें। ध्यान रखें इस एक घंटे के बींच ठंडा पानी नहीं पीना। इस तरह से सुबह शाम इससे मालिश करें।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!