चुनाव में नोटा क्या है क्या होता अगर नोटा जीतता है इलेक्शन में आप किसे वोट देंगे

चुनाव में नोटा क्या है
चुनाव में नोटा

नोटा का सीधा सम्बन्ध चुनाव से है, जिसका प्रयोग कोई भी वोटर मतदान करते समय कर सकता है। अगर आपको कोई भी प्रत्याशी योग्य नहीं हैं 

और किसी कारणवश वह असंतुष्ट है, तो मतदाता ईवीएम अर्थात इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में दिए गए नोटा बटन को दबा कर अपना मत किसी भी उम्मीदवार को ना देने का विकल्प चुन सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

जबकि मतगणना अर्थात वोटों की गिनती के समय उस मतदाता द्वारा डाला गया वोट नोटा में गिना जाता है।

कुछ साल पहले अगर चुनाव में खड़े उम्मीदवारों में से कोई भी उम्मीदवार किसी मतदाता को काबिल नहीं लगता था, तो मतदाता अपना वोट देने नहीं जाया करते थे और ऐसे में वो अपने मतदान का इस्तेमाल करने से वंचित रह जाते थे।

लेकिन अब हमारे देश के नागरिकों को मतदान करते समय ‘नोटा’ का विकल्प दिया जाने लगा है और इस विकल्प का इस्तेमाल वोटिंग के दौरान कई लोगों द्वारा किया भी जा रहा है।

चुनाव में नोटा क्या है
क्या होता अगर नोटा जीतता है

किसी भी इलेक्शन में अगर नोटा को सबसे ज्यादा मत मिलते हैं तो जो नोटा से दूसरे स्थान पर वोट हासिल करेगा उसको विजयी मना जायेगा। 

हालांकि यह असंभव है कि सारे वोट नोटा को ही पड़े क्योंकि उम्मीदवार भी मतदाता होता है और उसके परिवार के लोग भी जो कि अपने परिवार के सदस्य को ही वोट देंगे।

नोटा की फुल फॉर्म क्या है

नोटा का फुल फॉर्म “Nun of the Above” होता है, वहीं इसका हिंदी में अर्थ ‘इनमें से कोई नहीं’ होता है। इसका इस्तेमाल प्रमुख रूप से मतदाता के द्वारा सभी प्रत्याशी को नापसंद के लिए किया जाता है।

भारत निर्वाचन आयोग ने दिसंबर 2013 के विधानसभा चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में नोटा का का इस्तेमाल किया था और इसका रिजल्ट अच्छा आने के बाद वर्ष 2015 में इसे सम्पूर्ण देश में लागू कर दिया गया था।

नोटा का प्रयोग कब किया गया

नोटा का उपयोग सबसे पहले भारत में 2009 में किया गया था, स्थानीय चुनावों में नोटा का विकल्प देने वाला छत्तीसगढ राज्य था।

None of the above नोटा विकल्प का इस्तेमाल पहली बार 2013 में चार राज्यों – छत्तीसगढ़, मिजोरम, राजस्थान और मध्य प्रदेश और केंद्र शासित प्रदेश, दिल्ली में हुआ था। राज्य के चुनाव में 15 लाख से अधिक लोगों ने विकल्प का इस्तेमाल किया।

नोटा को वोट देने के फायदे क्या है
क्या है नोटा सिस्टम

जैसा कि गैरेथ एडमसन ने उल्लेख किया है, नोटा एक मतदान प्रणाली नहीं है, बल्कि एक और विकल्प है जिसे चुना जा सकता है, बाकी उम्मीदवार विकल्पों के साथ।

यह किसी अन्य उम्मीदवार के लिए मतदान करने जैसा है, सिवाय इसके कि अगर नोटा बहुमत से जीतता है, तो उसे चुना नहीं जा सकता – दूसरा सबसे बड़ा वोट विजेता चुना जाएगा।

लेकिन नोटा मतदाताओं के बीच असंतोष के स्तर को मापने के लिए वास्तव में उपयोगी उपकरण है – यह हमें उन मतदाताओं की संख्या बताता है जिनके लिए कोई भी उम्मीदवार उन पर शासन करने के लिए पर्याप्त नहीं है।

नोटा के लाभ क्या हैं

अवांछित उम्मीदवारों के खिलाफ मतदाताओं को असहमति व्यक्त करने की अनुमति देकर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को संरक्षित करता है (‘किसी को नहीं चुनना’ भी एक उचित विकल्प है जिसे लोगों को रखने की अनुमति दी जानी चाहिए)

मतदाता की गोपनीयता बनाए रखता है: नोटा से पहले, एक खाली वोट डालने के लिए, किसी को अपने नाम के साथ एक फॉर्म पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होती है – सैद्धांतिक रूप से, खाली मतदाताओं का पता लगाया जा सकता है और उनकी पसंद के लिए दंडित किया जा सकता है।

सभी नामांकित उम्मीदवारों को अस्वीकार करने वाले मतदाताओं के लिए एक विकल्प प्रदान करके संभावित रूप से मतदाता मतदान में सुधार कर सकते हैं।  इसके द्वारा यह लोकतांत्रिक प्रक्रिया में अधिक से अधिक भागीदारी को प्रोत्साहित कर सकता है अधिक मतदान के परिणामस्वरूप फर्जी मतदान को रोका जा सकता है

समय के साथ, राजनीतिक दलों द्वारा मैदान में उतारे गए उम्मीदवारों की गुणवत्ता और अखंडता में क्रमिक और व्यवस्थित परिवर्तन लाने की उम्मीद है उम्मीदवारों के बारे में मतदाताओं में असंतोष का एक अच्छा संकेतक है

नोटा के नुकसान क्या है

मतदाताओं द्वारा दुरुपयोग किया जा सकता है जो आसानी से सनकीपन से प्रभावित होते हैं और उनके लिए उपलब्ध विकल्पों को ध्यान से नहीं देखते हैं – कम ज्ञात लेकिन योग्य उम्मीदवारों की अनदेखी की जा सकती है, और अवांछित उम्मीदवार सत्ता में आ सकते हैं क्योंकि नोटा का कोई चुनावी मूल्य नहीं है।

नोटा के चुनावी मूल्य के अभाव में स्वच्छ राजनीति और अभिन्न उम्मीदवारों की प्रक्रिया धीमी है।

यदि फिर से चुनाव कराने और नोटा से कम वोट प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को अस्वीकार करने की शक्ति दी जाती है, तो यह प्रक्रिया बहुत तेज होगी, और यह उन लोगों के लिए अधिक आकर्षक होगा जो तत्काल, या कम से कम त्वरित परिणाम पसंद करते हैं।

राजनीतिक दलों द्वारा दुरुपयोग किया जा सकता है, विशेष रूप से मौजूदा राजनीतिक दलों के खिलाफ – विपक्ष मतदाताओं को नोटा प्रेस करने के लिए मौजूदा पार्टी के बारे में बहुत सारी नकारात्मक राय बना सकता है, खासकर अगर विपक्षी दलों में पर्याप्त विश्वसनीयता की कमी है।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!