अंकुरित सोयाबीन खाने के फायदे और सोयाबीन खाने के नुकसान

अंकुरित सोयाबीन खाने के फायदे
अंकुरित सोयाबीन खाने के फायदे

आज आपको अंकुरित सोयाबीन खाने के फायदे
जानकर अपको आश्चर्य जरूर होगा हम आपको बता दें कि शुगर में सोयाबीन खाने के फायदे और  सोयाबीन खाने के नुकसान क्या हैं और सोयाबीन की बड़ी में प्रोटीन की मात्रा कितनी होती है सोयाबीन बड़ी खाने के फायदे और नुकसान क्या क्या हैं।

आम तौर पर सभी लोग घर में सोयाबीन का इस्तेमाल स्वादिष्ट भोजन बनाने में किया करते हैं लेकिन आपको यह बात जानकर हैरानी जरूर होगी कि एक अकेला सोयाबीन कितना प्रोटीन से भरपूर है सोयाबीन में प्रोटीन इतना है कि जानकर आप चिकन मटन खाना भी भूल जाओगे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

अंकुरित सोयाबीन की न्यूट्रिशनल वैल्यू की बात करें तो, 1 कप यानी कि लगभग 70 ग्राम सोयाबीन में 85 कैलोरी होता है। 

अंकुरित सोयाबीन बैड कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है। दरअसल, इसमें अनसैचरेटेड फैट्स होते हैं जो कि बैड कलेस्ट्रॉल को कम करने और इन्हें पचाने में मदद करते हैं।

  • 9 ग्राम प्रोटीन
  • 7 ग्राम कार्ब्स
  • 5 ग्राम फैट
  • विटामिन सी
  • आयरन
  • फोलेट
  •  कैल्शियम
  • -फॉसफोरस
  • पोटेशियम
  • जिंक पाए जाते हैं।

शुगर में सोयाबीन खाने के फायदे

सोयाबीन का सेवन शुगर को नियंत्रित करने और रोकने का एक प्रभावी तरीका है। कई अध्ययनों के अनुसार सोयाबीन में शरीर में इंसुलिन रिसेप्टर्स को बढ़ाने की क्षमता होती है।

नतीजतन, यह शुगर को पहले स्थान पर होने से रोक सकता है या यदि आप पहले से ही इससे पीड़ित हैं तो बीमारी को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं।

 इसके अलावा, सोयाबीन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अविश्वसनीय रूप से कम होती है, जो इसे एक उत्कृष्ट शुगर विरोधी भोजन बनाती है।

एशियाई आहार में किण्वित सोयाबीन की प्रासंगिकता पर की गई एक समीक्षा से पता चला है कि यह टाइप 2 मधुमेह की प्रगति को रोकने में मदद कर सकता है।

 सोयाबीन खाने से आपका ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि सोया आइसोफ्लेवोन्स की वजह से यह न बढ़े। 

आइसोफ्लेवोन्स ग्लूकोज नियंत्रण में सुधार करते हैं और शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को कम करते हैं। यह प्रक्रिया में देरी करता है और शुगर रोगियों की मदद करता है।

अंकुरित सोयाबीन खाने के फायदे

कई कोरियाई व्यंजनों में सोयाबीन स्प्राउट्स एक लोकप्रिय सामग्री है। वे सोयाबीन अंकुरित करके उगाए जाते हैं ।

एक कप (70 ग्राम) सोयाबीन अंकुरित पैक में :-

  • कैलोरी: 85
  • कार्ब्स: 7 ग्राम
  • प्रोटीन: 9 ग्राम
  • वसा: 5 ग्राम
  • विटामिन सी: डीवी का 12%
  • फोलेट: डीवी का 30%
  • आयरन: डीवी का 8%

अंकुरित सोयाबीन के फाइटिक एसिड के स्तर को कम करता है, जो एक एंटीन्यूट्रिएंट है जो लोहे जैसे खनिजों को बांधता है, जिससे उनका अवशोषण कम हो जाता है। उदाहरण के लिए, अंकुरित सोया दूध और टोफू में गैर-अंकुरित उत्पादों की तुलना में क्रमशः 59% और 56% कम फाइटिक एसिड होता है।

इसलिए, सोयाबीन स्प्राउट्स नॉन-हीम आयरन – पौधों में पाए जाने वाले आयरन का प्रकार – आपके शरीर के लिए अधिक उपलब्ध करा सकते हैं 

जब आपके लोहे का स्तर कम होता है, तो आप पर्याप्त हीमोग्लोबिन का उत्पादन नहीं कर सकते – लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटीन जो आपके पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाता है। इससे आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया हो सकता है ।

आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया से पीड़ित 288 लड़कियों में 6 महीने के एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने प्रतिदिन 3 औंस (100 मिली) अंकुरित सोया दूध पिया, उनके फेरिटिन के स्तर में काफी सुधार हुआ, जो कि प्रोटीन है जो आपके शरीर में आयरन को स्टोर करता है।

इसी तरह, इस स्थिति वाले चूहों में 2 सप्ताह के एक अध्ययन में पाया गया कि एक सोयाबीन स्प्राउट सप्लीमेंट ने उनके हीमोग्लोबिन के स्तर को स्वस्थ चूहों के स्तर तक बढ़ा दिया।

जैसे, अंकुरित सोयाबीन इस विशेष प्रकार के एनीमिया को रोकने और उसका इलाज करने में मदद कर सकता है।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!