शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि व शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज पतंजलि और अंग्रेजी दवा का नाम

शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि :  शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज पतंजलि मौजूद हैं यहाँ आपको हम आज शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम व कुछ घरेलु उपाय बताने जा रहे हैं जिससे की आप बिस्तर पर लम्बा टिक सको। और आपकी शीघ्र स्खलन समस्या से आपको निजात मिल जाये।  यदि आप खुशहाल बैवाहिक जीवन का आनंद लेना पसंद करते हैं तो यहाँ आपको बहुत ही महत्वा पूर्ण जानकारी मिलने वाली है जिससे आप रात का राजा जरूर बन जाओगे और अपने साथी को भी अच्छे से संतुष्ट कर पाओगे।

शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि व शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज पतंजलि

आपके लिए शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि में उपलब्ध है मानसिक तनाव होने की वजह से सेक्स हार्मोन्स जैसे-टेस्टेरोन हार्मोन आदि असंतुलित हो जाते हैं। इसके कारण ही शीघ्रपतन की समस्या हो जाती है। शीघ्रपतन शारीरिक या मानसिक दुर्बलता के कारण भी हो सकता है। शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि में अश्वगंधा से वातादि दोष संतुलित होते हैं और शरीर में ताकत आती है। इससे यौन संबंधी समस्याओं में मदद मिलती है। इसका उपयोग शीघ्रपतन के अलावा नपुंसकता (Napunsakta) के इलाज में भी बहुत फायदेमंद साबित होता है। इन पदार्थों को आहार में शामिल करें, जैसे-दूध, बादाम, किशमिश, काले चने, मुलेठी आदि।आपको शिघ्रपतन का उपचार पतंजलि के लिए निचे लिखे दवाओं से ठीक करना चाहिए।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
  1. कच्चा प्याज भी खाएं।
  2. एक चम्मच भिण्डी के पाउडर को एक गिलास दूध में घोलकर पिएं।
  3. सोने से पहले एक छोटा चम्मच अदरक का पेस्ट और एक छोटा चम्मच शहद लेकर चाटें।
  4. 5 ग्राम तुलसी की जड़ को पीसकर पान में रखकर खाने से वीर्य पुष्ट होता है, और स्तम्भन शक्ति बढ़ती है।
  5. तुलसी बीज या जड़ के चूर्ण को पुराने गुड़ के साथ मिला लें। इसे 3 ग्राम रोज दूध के साथ सेवन करें। इससे पौरुष शक्ति में वृद्धि होती है।
  6. एल्कोहल, धूम्रपान आदि नहीं करना चाहिए।
  7. मानसिक तनाव से दूर रहने की कोशिश करें।
  8. जंकफूड, पिज्जा, बर्गर, कोल्ड ड्रिंक, पेस्ट्री आदि बिल्कुल ना खाएं।
  9. तेल, मिर्च मसाले वाला खाना कम खाएं।
  10. आहार में अनाज और ब्लूबेरी शामिल करें

शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम

शीघ्रपतन के इलाज में उपयोग की जाने वाली बहुत सारी औषधियाँ हैं जो इलाज में काफी हद तक बदलाव लाती हैं। जिसमें क्लोमीप्रामाइन जैसे फ्लुओक्सेटीन, पेरोक्सेटीन, या सेरट्रलाइन और ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट जैसे ड्रग्स भी दिए जाते हैं। लोपैथी में वियाग्रा, सिल्डेनाफिल जैसी दवाइयों को शीघ्रपतन की दवा (Premature ejaculation medicine) के रुप में इस्तेमाल किया जाता है।

शीघ्रपतन एक पेनकिलर दवा है, जो इसी रोग से संबंध रखती है । ट्रामाडॉल एक थर्ड लाइन मेडिसिन है, जो शीघ्रपतन में राहत देती है । इस समस्या में अक्सर यह दवा दी जाती है लेकिन यह ध्यान रखिए कि यह ओपीआर जैसी दवाई है, जिसकी लत लग सकती है और जो बाद में बहुत परेशान करेगी । इसलिए बिना किसी डॉक्टरी सलाह के ट्रामाडॉल न लें ।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!