एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार patanjali तथा बैद्यनाथ व पतंजलि गैसहर चूर्ण , वातारि चूर्ण के फायदे और खाने का तरीका

आपके लिए एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार patanjali काम आ सकता है पतंजलि एसिडिटी चूर्ण से व पतंजलि गैसहर चूर्ण के फायदे उठाने के लिए एक सही तरीका होना चाहिए जब पेट में आपके एसिड बन जाता है तो छाती में एक जलती हुई सनसनी जैसी होती है तो इसके इलाज के बारे में आज हम यहाँ बताएँगे जेसे की वातारि चूर्ण के फायदे भी एसिडिटी बहुत हैं पतंजलि का वातारि चूर्ण को आप ऑनलाइन भी मंगवा सकते है या फिर बैद्यनाथ वतारी चूर्ण का भी इस्तेमाल कर सकते हैं वतारी चूर्ण खाने का तरीका जानने के निचे पढ़ें।

यह भी पढ़ें:लिवोग्रिट पतंजलि के फायदे हैं लीवर के लिए जो बनेगा फौलादी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार patanjali

आपको बता दूँ की एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार patanjali में अलग अलग तरह से किया जाता है जिसमें की कुछ घरेलु नुस्खे में यहाँ बता रहा हूँ आप इसे भी इस्तेमाल कर सकते हैं एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार patanjali के लिए आपको केले का सेवन करना है इसमें पोटेशियम एसिडिटी के लिए एक उत्कृष्ट प्रतिरक्षी है. एक केला खाने से आपको एसिडिटी से राहत मिल सकती है। या फिर आपको एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार करने के लिए दूध का प्रयोग करना चाहिए दूध में कैल्शियम एसिड को अवशोषित करता है. जिससे आपका एसिडिटी ठीक हो जाता है। एक दूध पियें अपनी सुविधा के अनुसार ठंडा या गर्म करके पि सकते हैं।

  1. मिंट के पत्ते उबालकर पिने से एसिडिटी में राहत मिलती है
  2. तुलसी पेट में एंटीलसर गुण होते हैं. 5-6 तुलसी पत्तियों चबाने से एसिडिटी में राहत मिलती है
  3. इलायची अत्यधिक एसिड उत्पादन को रोकता है. इलायची के दो फली को उबालकर पानी पिने से एसिडिटी में राहत मिलती है
  4. जीरा: जीरा चयापचय में सुधार करता है. आप जीरा पानी में उबालें और फिर राहत के लिए पीएं.

पतंजलि एसिडिटी चूर्ण

एसिडिटी को भागने के लिए पतंजलि एसिडिटी चूर्ण तैयार किया गया है आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं जिसका नाम अविपट्टिकर चूर्ण एसिडिटी है यह अपच और कब्ज के लिए काफी प्रभावी इलाज है। आपके गलत खान पान से और भाग दौड़ भरी जीवन शैली के कारण हो रही पेट में गड़बड़ियों को यह अविपट्टिकर चूर्ण  ठीक करता है जो की जड़ी बूटियों और प्राकृतिक अर्क से तैयार किया गया है इससे आपके पेट में अम्लता को कम करता है फिर एसिडिटी से राहत मिलती है।

पतंजलि गैसहर चूर्ण के फायदे

गैसहर चूर्ण पतंजलि द्वारा गैस व कब्ज की समस्याओं के लिए बनाया गया है जिससे आपको की गैस यानि की वायु समस्या से राहत मिलती है यह गैसहर चूर्ण, दिव्य फार्मेसी द्वारा निर्मित एक आयुर्वेद दवा है। इसे अजवाइन, काली मिर्च, छोटी हरड़, हींग, जीरा, काला नमक जैसे नेचुरल इंग्रेडिएंट्स के मिश्रण से बनाया गया है। आप इसका सेवन रोजाना सुबह श्याम को कर सकते हैं जिससे आपके कब्ज व पेट की अन्य समस्या भी दूर हो जाती है यह एक प्रभावी जड़ी बूटियों से बना हुआ संयोजन है जो आपको बिना डॉक्टर के पर्चे से आसानी से मार्किट में मिल जाएगी जिसकी कीमत सामान्य है यह मार्किट में 100 रूपये के आसपास आपको मिल जायेगा। या फिर आप इसे पतंजलि स्टोर से इसे खरीद सकते हैं।

वातारि चूर्ण के फायदे व पतंजलि का वातारि चूर्ण

यह वतारी चूर्ण भी पतंजलि के दिव्या फार्मेसी द्वारा निर्मित किया हुआ उत्पाद है इसे आप बिना डॉक्टर के पर्चे के कहीं से भी खरीद सकते हैं या फिर पतंजलि स्टोर या ऑनलाइन मंगवा सकते हैं इसका उपयोग आप पेट से जुडी समस्याओं के लिए कर सकते हैं जैसे की गैस, कब्ज आदि यह मेंथी, अदरक, कुटकी आदि से बना एक आयुर्वेदिक संयोजन हैं इसके इस्तेमाल से आप रोजाना सुबह स्याम कर सकते हैं लेकिन किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पूर्व आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेना जरुरी है।

बैद्यनाथ वतारी चूर्ण

बैद्यनाथ आम वतारी चूर्ण  गठिया संबंधी विकार, बदन दर्द, जोड़ों में दर्द के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। जो की चित्रक, गुग्गुल, त्रिफला, शुद्ध गंधक से निर्मति एक सयोंजन है आपको इसका इस्तेमाल अपने डॉक्टर से सलाह लेकर करना चाहिए जिससे की आपको किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं देखना पड़े.

वतारी चूर्ण खाने का तरीका

किसी भी दवा को खाने से पूर्व उस पर दिए गए दिशा निर्देशों या अपने सम्बंधित डॉक्टर के दिए गए सलाह के अनुसार करना चाहिए हालाँकि आपको सुबह स्याम आप वतारी चूर्ण को पानी में मिलकर आधा आधा चमच खा सकते हैं। खाने से पूर्व आपको एक बार अपने डॉक्टर से सलाह अवस्य लें।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!