सर्दियों, गर्मी में सुखी फटी एड़ियों में दर्द का घरेलू इलाज

ज्यादातर लोगों की एड़ियां फटी होती हैं और लोग एड़ियों में दर्द का घरेलू इलाज ढूंढ़ते  हैं या तो एड़ियों के लिए परेसान रहते हैं यहाँ तक की गर्मी में भी उनकी एड़ियाँ फटी रहती हैं ऐसे में गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज तथा  सुखी फटी एड़ियों का इलाज हो या फिर सर्दियों में फटी एड़ियों का इलाज हो आपको यहाँ सभी प्रकार की फटी एड़ी का इलाज का समाधान यह आर्टिकल है पैर फटने का इलाज आपको ज्यादा खोजने की जरुरत नहीं फटे पैरों का इलाज हम आपको आज यहाँ बता रहे है एड़ी फटने का इलाज जानने के लिए यहाँ आपको सभी जानकारी मिलने वाली है फटी हुई एड़ियों का इलाज करने से पूर्व आपको बता दूँ हर जानकारी को गौर से पढ़ें।

एड़ियों में दर्द का घरेलू इलाज

एड़ी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप सेब के रस के सिरके का इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसे में आपको रोजाना सेब के सिरके का सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से यूरिक एसिड कम होता है। साथ ही एड़ी फटने, दर्द आदि की समस्याओं में भी मदद मिलती है। स्ट्रेचिंग क्रियाएं भी निचले पैर के दर्द से राहत दिला सकती हैं। यह व्यायाम रक्त संचार को और बढ़ाता है और सूजन और दर्द से भी राहत दिला सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

आप निचले पैर के दर्द को कम करने के लिए भी उबलते पानी का उपयोग कर सकते हैं। इस स्थिति के लिए, उबलते पानी के एक बर्तन का एक हिस्सा लें और उसमें सेंधा नमक या फिटकरी मिलाएं। अब कुछ प्रयास के लिए अपने पैरों को लगाकर बैठे रहें। ऐसा करने से समस्या से निपटा जा सकता है। सरसों के तेल से मालिश करने से भी एड़ी का दर्द ठीक हो सकता है। ऐसे में आप लहसुन को सरसों के तेल में डालकर तेज कर लें। प्रभावित हिस्से को हल्के हाथों से रगड़ें। ऐसा करने से हड्डियां और मजबूत हो सकती हैं साथ ही मजबूती भी बाहर निकल सकती है।

गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज

फटी एड़ियों को ठीक करने के लिए आप शहद और दूध के मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं। फटी एड़ियों को ठीक करने के लिए यह बेहद सफल नुस्खा है। आपको बस एक डिश में शहद के साथ दूध गर्म करना है और इसमें निचोड़ा हुआ संतरे मिलाना है। इस मिश्रण को गैस से उतार कर ठंडा होने दें। इसे एक डिब्बे में भर कर रख लें और इस क्रीम को रोजाना अपनी फटी एड़ियों पर लगाएं।

1.पैरों को तृप्त रखें

शुष्क त्वचा को ठीक करने के लिए, आपको अपनी एड़ियों को संतृप्त रखना चाहिए। इसके लिए आप किसी अच्छी स्किन क्रीम या लोशन का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप नारियल के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। तेल से मालिश करने से आपको काफी लाभ मिलेगा। रात को सोने से पहले फटी एड़ियों पर लोशन लगाएं या कमर पर तेल से मलें, जल्द ही फायदा होगा।

 2. गर्म पानी से पैर धोएं

फटी एड़ियों में जमी मिट्टी को साफ करना जरूरी है। यह आपकी स्थिति को खराब करता है और आपके पैरों की सुंदरता को भी खराब करता है। ऐसे में पैरों को गर्म पानी से साफ करना काफी मददगार साबित हो सकता है। आप गर्म पानी में सेंधा नमक मिला सकते हैं और अपने पैरों को कुछ देर के लिए सोख सकते हैं। आप क्लीन्ज़र भी शामिल कर सकते हैं। पैरों को अनिवार्य रूप से अच्छी तरह से रगड़ें। इससे मिट्टी के साथ मृत कोशिकाओं को खत्म करने में मदद मिलेगी।

3. लैवेंडर फुट क्रीम लगाएं

चोट के निशान पर रोजाना लैवेंडर फुट क्रीम लगाने से आप टूटे हुए निशान की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। आप इसे घर पर भी बना सकते हैं, एक डिश में शीया मार्जरीन और नारियल का तेल मिला सकते हैं। पतीले की आग धीमी ही रखिये. अब इसमें लेवेंडर का तेल मिलाएं, जब यह थोड़ा गर्म हो जाए तो गैस बंद कर दें। अब इसे एक डिब्बे में भरकर रख लें। इससे अपने पैरों को लगातार रगड़ें।

4. फटी एड़ियों पर ग्लिसरीन लगाएं

ग्लिसरीन त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होती है। यह त्वचा को संतृप्त करने और नमी में सुरक्षित रखने में मदद करता है। आप सोने से पहले लगातार फटी एड़ियों पर ग्लिसरीन लगाकर आराम कर सकते हैं। आप चाहें तो इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं। नींबू में एल-एस्कॉर्बिक एसिड भरपूर मात्रा में होता है और त्वचा से मृत कोशिकाओं को खत्म करने में मददगार होता है। यह आपको फटी एड़ियों से तुरंत राहत दिला सकता है।

सर्दियों में फटी एड़ियों का इलाज

साल का ठंडा समय अपने साथ कई समस्याएं लेकर आता है और इन समस्याओं का एक बड़ा हिस्सा हमारी त्वचा से जुड़ा होता है। पुरुष हों या महिलाएं, सर्दियों में त्वचा के रूखेपन की शिकायत हर किसी को होती है। फटी एड़ियां भी रूखी त्वचा से जुड़ी एक समस्या है, जो ज्यादातर सर्दियों में ही देखने को मिलती है।

जिस प्रकार ठंडी और शुष्क हवाएँ त्वचा में रूखापन लाती हैं, उसी प्रकार पैरों की त्वचा भी सूखने के बाद टूटने लगती है और कभी-कभी यह टूटन इतनी गहरी हो जाती है कि जमीन पर पैर रखने में भी टनों का नुकसान होता है। . अगर आपको भी सर्दियों में फटी एड़ियों की समस्या है तो इस लेख में हम आपको ऐसी ही चार चीजों के बारे में बताएंगे, जिनकी मदद से फटी एड़ियों की समस्या को दूर किया जा सकता है। हालांकि, इससे पहले यह जानना भी जरूरी है कि आखिर सर्दियों में एड़ियां क्यों फटती हैं।

सर्दियों में फटी एड़ियां

वैसे तो एड़ियों के फटने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, लेकिन सर्दियों में चलने वाली विषाणु शुष्क हवाएं इसका मुख्य कारण हैं। दरअसल, ठंड के दिनों में चलने वाली हवाएं निचले पैरों की त्वचा में गहराई तक जाती हैं और इससे नमी कम हो जाती है। सर्दियों में हवा की उमस कम हो जाती है इसलिए त्वचा का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है।

इन बातों को याद रखो

अगर सर्दियों में आपके पैरों के इम्पैक्ट पॉइंट बार-बार टूटते हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखकर आप इस समस्या से दूर रह सकते हैं। सर्दियों में फटी एड़ियों का इलाज करने के लिए करें ये 4 काम

1. 20 मिनट के लिए उबलते पानी को सोखें

यदि आपके प्रभाव बिंदु टूट गए हैं, तो शाम को थोड़ा पानी गर्म करें और अपने पैरों को लगभग 20 मिनट तक सोखें। इसके बाद ऊपर से जमी चर्बी को प्यूमिस स्टोन से खत्म करें। ऐसा करने से आपके निचले पैरों के अंदर नमी आ जाती है, जिससे वे टूटना बंद कर देते हैं।

2. तेल आधारित तेल जैम लगाएं

उन्हें पानी से निकालने के बाद, उन्हें लगभग 10 मिनट के लिए एक सूती कपड़े या तौलिये से लपेट दें। इसके बाद इन्हें पूरी तरह से पोंछ लें और कुछ बेहतरीन ऑयल बेस्ड ऑयल जैम लगाएं। ऐसा करने से टांगों के निचले हिस्से में मौजूद चारों तरफ की दरारें भरने लगती हैं।

3. शाम के समय 2 से 3 घंटे के लिए जुराबें पहनें

इस घटना में कि आपने ऊँची एड़ी के जूते को तोड़ दिया है, इसका मतलब यह है कि जितना संभव हो सके उन्हें गीला रखने के लिए काफी कुछ है। कम से कम 20 मिनट तक गर्म पानी सोखने के बाद और जैम लगाने के बाद मोज़े पहनें, ताकि निचले पैर भीगे रहें। 2 से 3 घंटे से कम समय के लिए मोज़े पहनें ताकि निचले पैरों में टूट-फूट ठीक हो जाए।

4. कोशिश करें कि खुले पैर जमीन पर न रखें

शाम के समय, जब आपके पैर बिस्तर में गर्म होते हैं, तो गलती से भी अपने पैर वायरस की जमीन पर न रखें। इसी तरह, यदि आपके निचले पैर टूट गए हैं, तो खुले पैरों को जमीन पर न रखें, क्योंकि ऐसा करने से निचले पैर के टूटने में संक्रमण हो सकता है, बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए, न रखें खुले पैर जमीन पर.

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!