बैद्यनाथ सुंदरी कल्प के फायदे : सुंदरी कल्प सिरप के बारे में जानकारी रखें फायदे ही फायदे हैं

बैद्यनाथ सुंदरी कल्प के फायदे : आपको हम आज यहां वैजनाथ सुंदरी कल्प के फायदे और जानकारी देने वाले हैं आपको बता दें यह सुंदरी कल्प सिरप महिलाओं के होने वाली मासिक धर्म और श्वेत प्रदर रक्त प्रदर गर्भाशय पांडू आदि समस्याओं में लाभकारी है यह इन सभी समस्याओं से आपको निजात दिला सकता है सुंदरी कल्प में बहुत सी घटक मिलाकर के यहां तैयार किया जाता है जो कि एक आयुर्वेदिक सिरप है आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं हालांकि इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है लेकिन हम आपको यही सलाह देंगे डॉक्टर के परामर्श के अनुसार ही आप किसी भी दवा का प्रयोग कर सकते हैं तो चलिए जानते हैं सुंदरी कल्प सिरप के बारे में कुछ जरूरी जानकारी।

बैद्यनाथ सुंदरी कल्प के फायदे

यह आपके लिए रामबाण औषधि साबित हो सकता है जिन महिलाओं के पुराने रुके हुए पीरियड्स नियमित रूप से नहीं होते हैं या रुक जाते हैं या फिर शरीर में दर्द थकान बदन दर्द और आपको चिड़चिड़ापन रहता है कमजोरी आदि रहती है तो यह सुंदरी कल्प सिरप आपके लिए फायदे देता है साथी इससे आपकी आंखों की जलन वह तलवों की जलन सिर का भारी रहना पेट का दर्द जैसी समस्याओं से निजात मिलता है इसका आप नियमित सेवन करते हैं जिन महिलाओं को श्वेत प्रदर, गर्भाशय या रक्त प्रदर, हिस्टीरिया, प्रमेय, मूत्रघात जैसी समस्याएं होती हैं उसके लिए भी लाभकारी होता है आपको इसे एक से दो चम्मच दोनों समय भोजन करने के बाद पानी में घोलकर के पीना चाहिए ऐसा आपको अनियमित 1 सप्ताह तक करने पर आपकी सारी समस्याएं हो सकती हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सुंदरी कल्प सिरप के बारे में जानकारी

दरअसल सुंदरी कल्प एक आयुर्वेदिक औषधि के हाथों में सुरक्षित गर्भाशय टॉनिक मानी जाती है इससे प्राकृतिक रजोनिवृत्ति का पूरक भी कहा जाता है जो रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने में आपको लाभ देता है इससे आपके मासिक चक्र को नियमित रूप से सुचारू रखने पर यह मदद करता है इसका सेवन करने से महिलाओं में ताकत और सहनशक्ति का बढ़ा हुआ होता है सुंदरी कल्प एक टॉनिक है जो आपको एनर्जी बूस्टर का भी कार्य करता है सुंदरी कल्प का सेवन करने वाली महिलाएं अक्सर स्वस्थ एवं फिट रहती है इससे आपके मासिक धर्म में होने वाले पीड़ा से भी निजात मिलता है।

सुंदरी कल्प सिरप में यह घातक शामिल हैं

आयुर्वेद में अक्सर इस्तेमाल किया जाने वाला यह सिरप इन घटकों से तैयार किया जाता है जैसे की – अशोक छाल, लोध्र छाल, चीनी, गुड़,  धाय के फूल, मुनक्का, सफ़ेद जीरा, नागरमोथा, सौंठ,दारुहल्दी, कमल फूल , हरड़ , बहेड़ा , आँवला , आम की गुठली की मींगी ,  केशर , वासा -मूल , सफ़ेद चन्दन , रसौत , पतंगकाष्ठ , खदिर -काष्ठ , बेलगिरी , सेमल के फूल , खरैंटी के पंचांग , शुद्ध भिलावा , अनंतमूल , गुड़हल के फूल , दालचानी , बड़ी इलायची, लौंग आदि के सयोंग से बनाया जाता है।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!