छरीला के फायदे और नुकसान जानें आयुर्वेद में छुपे रहस्यों का फायदा उठाएं

क्या आपने कभी छरीला (पत्थर का फूल) और इसके अनगिनत फायदों के बारे में सुना है? आज हम आपको छरीला के फायदे और नुकसान बता रहे हैं जबकि बहुत से लोग छरीला को मसाले के रूप में उपयोग करने से परिचित हैं, इस अनोखे पौधे में और भी बहुत कुछ है। इस व्यापक गाइड में, हम छरीला के विभिन्न लाभों का पता लगाएंगे और इसके संभावित दुष्प्रभावों पर भी चर्चा करेंगे। तो आइए गोता लगाएँ और छरीला के चमत्कारों की खोज करें!

छरीला क्या है?

छरीला, जिसे वैज्ञानिक रूप से परमेलिया पेरलाटा के नाम से जाना जाता है, एक प्रकार का लाइकेन है जो चट्टानों, पेड़ों और दीवारों पर उगता है। यह आमतौर पर चट्टानी पहाड़ों पर पाया जाता है और पत्थरों की सतह पर एक सुंदर फूल की तरह दिखाई देता है। इसके अनोखे स्वरूप के कारण इसे “स्टोन फ्लावर” भी कहा जाता है। छ्रिला का ऊपरी हिस्सा गहरे हरे रंग का है, जबकि निचला हिस्सा सफेद है। इसमें एक विशिष्ट सुगंध होती है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

विभिन्न भाषाओं में छरीला के नाम

छरीला को विभिन्न भाषाओं में विभिन्न नामों से जाना जाता है। आइए छरीला के कुछ सामान्य नामों के बारे में जानें:

  1. हिंदी: छरीला, भूरिरिल्ला, पत्थरफूल
  2. संस्कृत: शैलेय, शिलापुष्प, वृद्ध, काल्यक, अश्मपुष्प, शीतशिव
  3. अंग्रेज़ी: पीला लाइकेन, लिथो लाइकेन, लाइकेन, पत्थर के फूल
  4. उर्दू: हबाकरमानी, रिहानकरमानी
  5. कन्नड़: कल्लुहुवु
  6. गुजराती: घबीलो, पत्थरफूला, छडीलो
  7. तमिल: कलपसी, कलापु
  8. तेलुगु: शैलेय मनेद्रव्यमु, रतिपंचे
  9. बंगाली: शैलज
  10. नेपाली: भणयौ
  11. पंजाबी: चाललीरा
  12. मराठी: दगडफूल
  13. मलयालम: सेलेयम, कलपुवु
  14. अरबी: आशीना, उसनाह
  15. फ़ारसी: दवाला, दोवालह, उशनह, गुलसंग

छरीला के फायदे

1. बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

बालों की समस्या कई व्यक्तियों के लिए एक आम चिंता का विषय है। हालाँकि, सफ़ेद बालों के लिए छरीला एक लाभकारी उपाय हो सकता है। छरीला को अन्य सामग्रियों जैसे करचूर, हल्दी, काली तुलसी, तगर और गुड़ के साथ मिलाकर, आप एक पेस्ट बना सकते हैं जो बालों के समय से पहले सफ़ेद होने को कम करने में मदद करता है।

2. सिरदर्द से राहत दिलाता है

यदि आप बार-बार सिरदर्द से पीड़ित हैं, तो छरीला राहत प्रदान कर सकता है। माथे पर कुचले हुए छर्रे का लेप लगाने से सिरदर्द कम हो जाता है और आराम मिलता है।

3. नेत्र रोगों का इलाज करता है

छरीला का उपयोग पारंपरिक रूप से विभिन्न नेत्र रोगों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। हरीतकी, बहेड़ा, आंवला, सोंठ, मारीच, पिप्पली, समुद्रफेन, छरीला और राल को बराबर मात्रा में मिलाकर इसका पेस्ट बनाकर आंखों में काजल की तरह लगाया जा सकता है। यह उपाय कफ के असंतुलन के कारण होने वाले नेत्र विकारों के लिए फायदेमंद माना जाता है।

4. पाचन में सहायता करता है

छरीला का सेवन करने से पाचन क्रिया बेहतर होती है और गैस और कब्ज जैसी समस्याओं से राहत मिलती है। इसमें ऐसे गुण हैं जो पाचन तंत्र को शांत करने और स्वस्थ मल त्याग को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

5. किडनी स्टोन प्रबंधन में सहायता करता है

छरीला में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो आंतरिक सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। यह इसे गुर्दे की पथरी के प्रबंधन और उनसे जुड़ी परेशानी को कम करने में उपयोगी बनाता है।

6. एंटी-फंगल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण

छरीला में ऐसे यौगिक होते हैं जिनमें एंटी-फंगल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण होते हैं। ये गुण इसे विभिन्न संक्रमणों से लड़ने और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में प्रभावी बनाते हैं।

7. श्वसन स्वास्थ्य का समर्थन करता है

छरीला का उपयोग पारंपरिक रूप से श्वसन स्वास्थ्य में सहायता के लिए किया जाता रहा है। यह श्वसन संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है और खांसी, सर्दी और अस्थमा जैसी स्थितियों से राहत देता है।

8. मूत्र संबंधी विकारों से राहत दिलाता है

यदि आप मूत्र संबंधी विकारों से पीड़ित हैं, तो छरीला एक लाभकारी उपाय हो सकता है। यह सूजन को कम करने में मदद करता है और मूत्र पथ के संक्रमण जैसी स्थितियों से राहत देता है।

9. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है

छरीला का नियमित सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है। इसके औषधीय गुण शरीर की रक्षा तंत्र को मजबूत करते हैं और इसे संक्रमणों के प्रति अधिक प्रतिरोधी बनाते हैं।

10. एंटीऑक्सीडेंट सुरक्षा प्रदान करता है

छरीला में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर में हानिकारक मुक्त कणों को बेअसर करने में मदद करते हैं। यह कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है और पुरानी बीमारियों के खतरे को कम करता है।

छरीला के नुकसान

जबकि छरीला कई लाभ प्रदान करता है, संभावित दुष्प्रभावों के बारे में जागरूक होना महत्वपूर्ण है। हालांकि दुर्लभ, कुछ व्यक्तियों को छरीला का उपयोग करते समय एलर्जी प्रतिक्रियाओं का अनुभव हो सकता है। यदि आपमें खुजली, लालिमा या सूजन जैसे कोई प्रतिकूल लक्षण विकसित होते हैं, तो उपयोग बंद कर दें और किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।

निष्कर्ष

छरीला, जिसे स्टोन फ्लावर के नाम से भी जाना जाता है, कई प्रकार के लाभों वाला एक उल्लेखनीय पौधा है। बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने से लेकर सिरदर्द से राहत और आंखों की बीमारियों के इलाज तक, छरीला पारंपरिक चिकित्सा का एक अभिन्न अंग रहा है। हालाँकि, सावधानी के साथ छरीला का उपयोग करना और किसी भी संभावित एलर्जी प्रतिक्रिया के प्रति सचेत रहना आवश्यक है। छरीला को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से पहले किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें, खासकर यदि आपको पहले से कोई चिकित्सीय समस्या है। छरीला के चमत्कारों को अपनाएं और स्वस्थ जीवन के लिए इसकी क्षमता को उजागर करें!

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!