मुह में फंगल इन्फेक्शन को दूर करते हैं ये घरेलू टिप्स व दवा

यहां आपको फंगल इन्फेक्शन व मुह में फंगल इन्फेक्शन को कैसे ठीक करते हैं बताऊंगा तथा लिप्स फंगल इन्फेक्शन कैसे होता है और चेहरे पर फंगल इंफेक्शन है तो आपको यह आर्टिकल काम आ सकता है यहां आपको फंगल इन्फेक्शन ट्रीटमेंट इन हिंदी में बताया गया है फंगल इन्फेक्शन किस विटामिन की कमी से होता है यह जानना आपके लिए महत्वपूर्ण है ताकि आपके जीभ में फंगल इन्फेक्शन जो होता है उसके बारे में भी जान सको यहां आपको बेस्ट ट्रीटमेंट फॉर फंगल इन्फेक्शन, स्किन के बारे में बताया गया है।

यह भी पढ़ें : प्राइवेट पार्ट का कालापन कैसे दूर करें , जांघों के अंदर का कालापन दूर करने के आसान घरेलू उपाय

फंगल इन्फेक्शन

यह फंगल इन्फेक्शन त्वचा, नाखूनों, योनि, और अन्य शरीर के भागों पर होने वाली संक्रमण हैं। यह इन्फेक्शन विभिन्न प्रकार के कवक (fungs) द्वारा हो सकता है। फंगल इन्फेक्शन के लिए कुछ घरेलू उपाय या नुस्खे मददगार साबित हो सकते हैं, लेकिन फिर भी अनुशासनपूर्वक एक चिकित्सक की सलाह प्राप्त करना जरूरी है। यहां कुछ सामान्य घरेलू नुस्खे हैं:

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

1. टी ट्री ऑयल

टी ट्री ऑयल एंटीफंगल गुणों से भरपूर होता है और फंगल इन्फेक्शन को कम करने में मदद कर सकता है। इसे सीधे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं, प्रतिदिन दो-तीन बार।

2. सेब का सिरका

सेब का सिरका फंगस के विरुद्ध लड़ने में सक्षम होता है। एक टेस्पून सेब के सिरके को एक कप पानी में मिलाएं और इस संदूषण युक्त प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। इसे रात में छोड़ दें और सुबह नहाएं।

3. दही

दही में मौजूद प्रोबायोटिक्स फंगल इन्फेक्शन को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसे सीधे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और इसे 20-30 मिनट तक रखें, फिर ध्यान से धो लें।

4. नीम

नीम में एंटीफंगल गुण होते हैं और फंगल इन्फेक्शन को कम करने में मदद कर सकते हैं। नीम की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बनाएं और इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं, फिर उसे धो लें।

5. गार्लिक (लहसुन)

गार्लिक फंगस के खिलाफ लड़ने में सक्षम होता है। एक लहसुन की कली को पीसकर इसे त्वचा पर लगाएं और 20-30 मिनट तक रखें, फिर ध्यान से धो लें।

मुह में फंगल इन्फेक्शन

ऐसा फंगस जो मुँह में फंगल इन्फेक्शन जिसे मुख्य रूप से कैंडिडा इन्फेक्शन के रूप में जाना जाता है, जिसे मुंह के भीतरी भागों या जीभ पर होता है। यह जलन, खुजली, सूजन और सफेद दाग के रूप में प्रकट हो सकता है। फंगल इन्फेक्शन के लिए कुछ घरेलू उपाय या नुस्खे मददगार साबित हो सकते हैं, लेकिन मुंह के इन्फेक्शन के लिए मैं आपको चिकित्सकीय सलाह लेने की सलाह दूंगा, क्योंकि सही निदान और उपचार के लिए विशेषज्ञ की आवश्यकता हो सकती है। चिकित्सक आपकी स्थिति का मूल्यांकन करेंगे और उपयुक्त दवा या उपचार सुझाएंगे। मुँह में फंगल इन्फेक्शन के लिए आमतौर पर निम्नलिखित उपाय सलाह दिए जाते हैं:

1. अंग्रेजी सोडा

अंग्रेजी सोडा (बेकिंग सोडा) एंटीफंगल गुणों से भरपूर होता है। एक टेस्पून अंग्रेजी सोडा को गर्म पानी में मिलाएं और इसे मुंह में धोते समय उपयोग करें।

2. नमक पानी

नमक का पानी भी एंटीफंगल गुणों के लिए जाना जाता है। गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिलाएं और इसे मुंह में धोते समय इस्तेमाल करें।

3. पाइनएपल जूस

पाइनएपल जूस में मौजूद एन्जाइम्स कैंडिडा इन्फेक्शन के खिलाफ लड़ने में मदद कर सकते हैं। इसे नियमित रूप से पीने से लाभ मिल सकता है।

4. कोकोनट ऑयल

कोकोनट ऑयल में एंटीफंगल और जीवाणुरोधी गुण पाए जाते हैं। इसे इन्फेक्टेड इलाके पर लगाएं और धीरे-धीरे मुंह में स्विश करें।

5. तुलसी (होली बेज)

तुलसी की पत्तियों में एंटीफंगल गुण होते हैं। इसे पीसकर पेस्ट बनाएं और मुंह में लगाएं, फिर धो लें।

यह भी पढ़ें: पतंजलि आयुर्वेदिक मेडिसिन फॉर फंगल इन्फेक्शन व आयुर्वेदिक उपचार के साथ जाने फंगल इन्फेक्शन में क्या खाना चाहिए

लिप्स फंगल इन्फेक्शन

लिप्स फंगल इन्फेक्शन वह स्थिति है जब मुख्य रूप से होंठों (लिप्स) पर कवक (fungs) का संक्रमण होता है। इसे लेबियल कैंडिडिएसिस भी कहा जाता है। यह अवसाद, अवरोधित श्वसन, जलन, दर्द और अच्छे तरीके से मुस्कान करने में दिक्कत पैदा कर सकता है। लिप्स फंगल इन्फेक्शन के मुख्य कारण यह होते हैं:

1. अन्य इन्फेक्शन

कई बार दूसरी संक्रमण जैसे योनि के कवक संक्रमण, मुंह के अंदरी भाग में प्रवेश करके लिप्स पर फंगल संक्रमण का कारण बन सकते हैं।

2. दवाओं का उपयोग

कुछ दवाओं, जैसे एंटीबायोटिक्स या स्टेरॉयड दवाएं, लिप्स पर फंगस के विकास का कारण बन सकती हैं।

3. दौर्यामय प्रभाव

शरीर के प्रतिरोधक क्षमता में कमी, डायबिटीज़, गर्भावस्था, या अन्य कारणों से लिप्स पर फंगल संक्रमण के लिए अधिक प्रवृत्त हो सकता है।

लिप्स फंगल इन्फेक्शन के लिए चिकित्सा सलाह और उपचार की आवश्यकता होती है। चिकित्सक आपके लक्षणों का मूल्यांकन करेंगे और उपयुक्त दवा या उपचार सलाह देंगे। आमतौर पर, फंगल इन्फेक्शन के लिए दवाएं और एंटीफंगल क्रीम या जेल का उपयोग किया जाता है। स्वदेशी नुस्खे जैसे कि नींबू का रस, तुलसी के पत्ते, और अलोवेरा जेल लागू किए जा सकते हैं।

चेहरे पर फंगल इंफेक्शन क्यों होता है

चेहरे पर फंगल इन्फेक्शन एक साधारण समस्या हो सकती है और इसके कई कारण हो सकते हैं। यहां कुछ मुख्य कारण दिए गए हैं

1. मौसमी परिवर्तन

चेहरे की त्वचा मौसमी परिवर्तनों के लिए संवेदनशील होती है और इसलिए यह फंगल संक्रमण का आसार बन सकती है। धूप और गर्मी के मौसम में, त्वचा पर पसीना बनता है और इससे फंगल विकास का खतरा बढ़ जाता है।

2. उमस

जब हम अपने चेहरे को हाथों से छूते हैं, तो फंगस की संभावना हो सकती है। यदि हमारे हाथों पर फंगल संक्रमण होता है और हम उन्हें अपने चेहरे पर स्पर्श करते हैं, तो फंगस त्वचा पर पहुंच सकते हैं।

3. व्यक्तिगत साझा करें

फंगल संक्रमण व्यक्ति से व्यक्ति में छलांग लगा सकते हैं। यदि आप किसी व्यक्ति के संपर्क में आते हैं जिसके पास चेहरे पर फंगल संक्रमण है, तो आपको भी संक्रमित होने का खतरा हो सकता है।

4. धूल-मिट्टी और वातावरण संक्रमण

अगर आपका चेहरा धूल-मिट्टी और वातावरण के संपर्क में आता है, तो फंगल संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। धूल, मिट्टी, आर्द्रता और गंदगी फंगल विकास के लिए उचित माहौल प्रदान कर सकते हैं।

5. इम्यून सिस्टम की कमजोरी

यदि आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो तो, तो आपकी त्वचा संक्रमण से बचाने के लिए कमजोर हो जाती है। इम्यून सिस्टम कमजोर होने पर, आपकी त्वचा फंगल संक्रमण के प्रति अधिक प्रतिरोधशील नहीं रहती है।

फंगल इन्फेक्शन किस विटामिन की कमी से होता है

फंगल इन्फेक्शन किसी विशेष विटामिन की कमी से होने की सीधी वजह नहीं होती है। फंगल इन्फेक्शन कवक (फंगस) के विकास को प्रभावित करने वाले कई कारक हो सकते हैं, जिसमें इम्यून सिस्टम की कमजोरी, भीतरी और बाह्य दौर्यामय प्रभाव, गर्म और आर्द्र आवास, और इंफेक्शन संपर्क शामिल हो सकते हैं। यहां कुछ विटामिन और पोषक तत्व हैं जो त्वचा स्वास्थ्य और इम्यून सिस्टम को सुधारने में मदद कर सकते हैं, जिससे फंगल इन्फेक्शन की संभावना कम हो सकती है:

1. विटामिन सी

विटामिन सी एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करता है। सीताफल, नींबू, संतरा, आम, ग्वावा, गोलूबेरी, आदि विटामिन सी की स्रोत हो सकते हैं।

2. विटामिन ई

विटामिन ई एक अन्य प्रमुख एंटीऑक्सीडेंट है जो इम्यून सिस्टम को स्वस्थ रखने में मदद करता है। बादाम, मखाना, तिल, सूरजमुखी के तेल, और तिल का तेल विटामिन ई के अच्छे स्रोत हो सकते हैं।

3. विटामिन डी

विटामिन डी इम्यून सिस्टम को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण है। यह सूर्य की किरणों से त्वचा द्वारा संशोधित किया जाता है और मशरूम, मछली, और दूध में मिलता है।

जीभ में फंगल इन्फेक्शन

जीभ में फंगल इन्फेक्शन को शारीरिक रूप से कैंडिडा इंफेक्शन या ओरल थ्रश (Oral Thrush) के रूप में जाना जाता है। यह एक सामान्य फंगल संक्रमण है जो मुख में जीभ, गले, और मुंह के अन्य हिस्सों पर होता है। यह कवक (फंगस) कैंडिडा अलबिकन्स द्वारा होता है। जीभ में फंगल इन्फेक्शन के कुछ मुख्य कारण हैं:

1. इम्यून सिस्टम की कमजोरी

इम्यून सिस्टम की कमजोरी एक प्रमुख कारक हो सकती है जो कैंडिडा इंफेक्शन के लिए प्रावधान करता है। इम्यून सिस्टम कमजोर होने पर, यह फंगल संक्रमण अधिक प्रभावित कर सकता है।

2. आपातकालीन उपचार

जब किसी व्यक्ति को उच्च मात्रा में एंटीबायोटिक दवाओं या स्टेरॉयड दवाओं की आवश्यकता होती है, तो उनके उपयोग से कैंडिडा इंफेक्शन का खतरा बढ़ सकता है। इसका कारण होता है कि इन दवाओं का उपयोग त्वचा और मुख के अंदर के स्वास्थ्य बैक्टीरिया को भी प्रभावित कर सकता है, जिससे कैंडिडा का विकास होता है।

3. अन्य संक्रमण

कई बार दूसरे संक्रमण जैसे बैक्टीरियल इंफेक्शन, वायरल इंफेक्शन, या योनि के कवक संक्रमण के कारण भी जीभ में फंगल संक्रमण हो सकता है।

बेस्ट ट्रीटमेंट फॉर फंगल इन्फेक्शन स्किन

फंगल इन्फेक्शन के लिए उपयुक्त ट्रीटमेंट उसके स्थिति और संक्रमण के स्थान पर निर्भर करेगा। यह आपके चिकित्सक द्वारा निर्धारित किया जाएगा। नीचे कुछ सामान्य ट्रीटमेंट विकल्प दिए गए हैं जो फंगल स्किन इन्फेक्शन के लिए प्रयोगी हो सकते हैं:

1. एंटीफंगल क्रीम

एंटीफंगल क्रीम या जेल फंगस के विकास को रोकने और इंफेक्शन को ठीक करने में मदद कर सकती है। यह आमतौर पर अजनबीत्रास्टिन, टरबिनाफ़ाइन, क्लोट्रिमाज़ोल, मिकोनाज़ोल जैसे एक्टिव संदूकची खंडों को सम्मिलित करती हैं।

2. अंदरुण एंटीफंगल दवाएं

गंभीर या बड़े स्थानीय इन्फेक्शनों के लिए, चिकित्सक आपको आंटीफंगल दवाओं का सुझाव दे सकते हैं, जो आपको उंगलियों या और भागों पर लगाने के लिए हो सकती हैं। ये आमतौर पर केटोकोनाज़ोल, फ्लुकोनाज़ोल, आदि को शामिल करती हैं।

3. एंटीफंगल शैम्पू

यदि आपके बालों में फंगल संक्रमण है, तो आपके चिकित्सक आपको एंटीफंगल शैम्पू का सुझाव दे सकते हैं। यह बालों के खण्डों को संक्रमण मुक्त करने में मदद कर सकता है।

4. होम रेमेडीज़

कुछ फंगल संक्रमण के लिए घरेलू उपाय भी प्रभावी हो सकते हैं। इनमें टी ट्री ऑयल, सेब के सिरके, गार्लिक और अलोवेरा जैसे प्राकृतिक तत्व शामिल हो सकते हैं। इन घरेलू उपचारों के लिए सलाह लेने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना बेहतर होगा।

यह भी पढ़ें : चेहरे पर ग्लो लाने के लिए कौन सी क्रीम लगाएं यह है भारत की नम्बर एक क्रीम

आपके फंगल संक्रमण के लिए सबसे अच्छी उपायों के बारे में जानने के लिए, अपने चिकित्सक से परामर्श करें। वे आपकी स्थिति का मूल्यांकन करेंगे और आपको सबसे अच्छा उपाय सुझाएंगे जो आपके लिए उचित होगा।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!