पंचगुण तेल का उपयोग कैसे करें? व तेल के फायदे तथा बनाने की विधि

panchgun oil ke fayde : आज हम आपको पंचगुण तेल का उपयोग कैसे करें? सवाल का ज़वाब देंगे साथ ही जानेंगे कि पंचगुण तेल के फायदे क्या क्या होते हैं तथा पंचगुण तेल बनाने की विधि क्या है यदि आपको इसका उपयोग करना नही आता तो आप यहां जानेंगे कि पंचगुण तेल का उपयोग कैसे करें , यह आपके लिए महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है यहां आपको हर डिटेल्स से वाकिफ किया जाएगा।

पंचगुण तेल

पंचगुण तेल एक ऐसा तेल है जो विभिन्न तेलों का मिश्रण होता है। इसमें पांच प्रमुख तेलों का उपयोग किया जाता है, जिससे इसका नाम “पंचगुण” आता है। यह तेल आयुर्वेदिक चिकित्सा में बड़े पैमाने पर प्रयोग होता है। इसमें निम्बू, तिल, सरसों, मुंगफली और जैतून के तेल का मिश्रण बनाया जाता है। ये पांच तेल आपस में मिलकर पंचगुण तेल का निर्माण करते हैं। पंचगुण तेल को आप अपनी त्वचा और बालों की मालिश के लिए उपयोग कर सकते हैं। यह त्वचा को पोषण प्रदान करता है, उसे नरम और चमकदार बनाता है और बालों को मजबूती देता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

1. निम्बू तेल

निम्बू के रस को तेल के साथ मिलाने से निम्बू तेल बनता है। निम्बू तेल में विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट गुण पाए जाते हैं, जो त्वचा के लिए फायदेमंद होते हैं।

2. तिल तेल

तिल तेल मैग्नीशियम, कैल्शियम, आयरन, विटामिन ई और बी के साथ भरपूर होता है। यह त्वचा को नरम, चमकदार और स्वस्थ रखने में मदद करता है।

3. सरसों तेल

सरसों तेल में अल्फा-टोकोफेरोल नामक एक प्रकार का विटामिन ई होता है, जो त्वचा को नुर्तुर करने में मदद करता है और धूप के कारण होने वाले नुकसान से बचाता है।

4. मुंगफली तेल

मुंगफली तेल में प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट्स, और विटामिन बी के साथ-साथ विटामिन ए भी पाया जाता है। यह त्वचा को नमी प्रदान करता है और उसे नरम बनाए रखता है।

5. जैतून तेल

जैतून तेल त्वचा को मोइस्चराइज़ करता है, जिससे यह नरम और चमकदार बनती है। इसमें विटामिन ई, ए, और फैटी एसिड्स होते हैं जो त्वचा को निखारते हैं।

पंचगुण तेल का उपयोग कैसे करें?

आपके लिए पंचगुण तेल केवल बाहरी उपयोग के लिए है। उचित मात्रा में तेल का उपयोग करें और इसे प्रभावित क्षेत्र पर आसानी से रगड़ें और डॉक्टर की सलाह के अनुसार इसका उपयोग 3-6 महीने तक किया जा सकता है। पंचगुण तेल को आप अपनी त्वचा और बालों की देखभाल के लिए उपयोग कर सकते हैं। नीचे विभिन्न तरीके दिए गए हैं जिनके माध्यम से आप पंचगुण तेल का उपयोग कर सकते हैं।

1. त्वचा मालिश

पंचगुण तेल को अपने शरीर के अभियंत्रित क्षेत्रों पर मसाज करके त्वचा की मालिश करें। इससे त्वचा की नमी बनी रहती है और रूक्षता कम होती है। त्वचा के ताजगी को बनाए रखने के लिए इसे नियमित रूप से करना फायदेमंद होता है।

2. चेहरे की मालिश

चेहरे को खूबसूरत बनाने के लिए आप पंचगुण तेल को चेहरे पर लगा सकते हैं। इसे संक्षेप में देर तक मसाज करें और फिर धूलिए से साफ़ पानी से धो लें।

3. बालों में लगाना

पंचगुण तेल को बालों में लगाकर मालिश करना बालों के लिए फायदेमंद होता है। यह बालों को मजबूत बनाता है, रूसी को कम करता है और उन्हें चमकदार और नरम बनाता है।

4. नाखूनों की देखभाल

नाखूनों की मालिश के लिए भी पंचगुण तेल का उपयोग किया जा सकता है। इससे नाखून मजबूत रहते हैं और तोटने से बचते हैं।

5. शरीर के जोड़ों की मालिश

जोड़ों में दर्द और सूजन को कम करने के लिए भी पंचगुण तेल का उपयोग किया जा सकता है। इसे नीचे जोड़े गए भागों पर लगाकर मलिश करें और इससे राहत प्राप्त करें।

6. आयुर्वेदिक उपचार

पंचगुण तेल को आयुर्वेदिक उपचार के रूप में भी उपयोग किया जाता है। यह शरीर को शीत रहता है और विभिन्न रोगों से बचाता है।

पंचगुण तेल के फायदे

पंचगुण तेल के उपयोग से विभिन्न तरह के फायदे होते हैं। यह आयुर्वेदिक औषधि है जो त्वचा, बाल, और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होता है। पंचगुण तेल त्वचा को मोइस्चराइज़ करता है, रूखापन को कम करता है, और त्वचा को नरम बनाए रखने में फायदे देता है। इसमें मौजूद विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट्स त्वचा को ताजगी प्रदान करते हैं और धूप के कारण होने वाले नुकसान से बचाते हैं। पंचगुण तेल बालों को मजबूत बनाता है और उन्हें चमकदार बनाता है। यह बालों के झड़ने को कम करता है और रूसी से बचाता है। और पंचगुण तेल को जोड़ों में लगाने से दर्द और सूजन में आराम मिलता है। यह जोड़ों को आरामदायक बनाए रखता है और उन्हें मजबूत बनाता है। पंचगुण तेल आयुर्वेदिक उपचार के रूप में भी उपयोगी है और शरीर को शीत रखता है। साथ ही पंचगुण तेल में मौजूद विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट्स शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं, जिससे शरीर को रोगों से लड़ने की ताक़त मिलती है।

यह तेल त्वचा और बालों को नमी प्रदान करता है और उसे ताजगी से भर देता है। इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है और आपको ताजगी महसूस होती है।

पंचगुण तेल बनाने की विधि

आप पंचगुण तेल बनाने के लिए सबसे पहले हरीतकी, विभितकी, आमलकी, निम्बपत्र एवं निर्गुन्डी पत्र इन सभी को लेकर यवकूट कर लिया जाता है। अब इन यवकूट किये हुए द्रव्यों को 4.320 लीटर जल में डालकर आंच पर चढ़ा दिया जाता है। जब जल चौथाई बचे अर्थात 1.080 लीटर बचे तब इस तैयार क्वाथ को निचे उतार कर अलग रख लें अब एक भगोने में तिल तेल को गर्म करके मोम, गंधविरोजा, शिलारस, राल एवं गुग्गुलु इन सभी का कल्क बनाकर तिल तेल में डालदिया जाता है। अब इसमें तैयार क्वाथ डालकर निर्जल होने तक अग्नि पर पाक किया जाता है।

जब अच्छी तरह निर्जल पाक हो जाये तो आंच से उतार कर तारपीन का तेल, कर्पुर, यूकेलिप्टस तेल एवं केजोपुटी तेल इन सभी को मिश्रित कर दिया जाता है। अब इस तैयार तेल को छान कर कांच के पात्र में सहेज लिया जाता है। यही पंचगुण तेल है। अब आप पंचगुण तेल का उपयोग करें।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!