आर्युवेद में बैद्यनाथ सप्तगुण तेल के फायदे बहुत महत्व रखता है जानें इसके बेनिफिट्स

सप्तगुण तेल के फायदे : यह आर्युवेदिक तेल है सप्तगुण तेल से आप जलने, घाव, घाव, सूजन आदि के उपचार में फायदे हैं। इसे वैधनाथ सप्तगुण तेल भी कहा जाता है।

सप्तगुण तेल बनाने की सामग्री

चेबुलिक हरड़ – हरीतकी – टर्मिनलिया चेबुला, बेलेरिक मायरोबलन – बहेरा – टर्मिनलिया बेलिरिका – इसमें एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी माइक्रोबियल गतिविधियां हैं। करौंदा – अमलाकी – एम्ब्लिका ऑफिसिनैलिस – इसमें सूजन-रोधी और एनाल्जेसिक गुण होते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

संभालु – निर्गुंडी – विटेक्स नेगुंडो – यह एक बहुत अच्छी मांसपेशियों को आराम देने वाली और दर्द निवारक जड़ी बूटी है। राल – शोरिया रोबस्टा – राल साल के पेड़ (शाला) से निकाला गया गोंद है। यह एक कसैला आयुर्वेदिक औषधि है जो व्यापक रूप से त्वचा रोगों में उपयोग किया जाता है, रक्तस्राव रोकता है, घावों को ठीक करता है, दाद, जले हुए घाव, फ्रैक्चर आदि को ठीक करता है।

टारपिन तेल – गंधबिरोजा – पाइनस लोंगिफोलिया – यह मांसपेशियों में दर्द या ऐंठन, घाव, सूजन आदि में उपयोगी है। नीलगिरी तेल – नीलगिरी तेल – नीलगिरी ग्लोब्युलस – इसका उपयोग जोड़ों के दर्द, मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द के इलाज के लिए किया जाता है।

गुग्गुलु – कॉमिफोरा मुकुल – यह एक शक्तिशाली सूजन रोधी जड़ी बूटी है, इसलिए यह मांसपेशियों, जोड़ों, स्नायुबंधन और हड्डियों में दर्द से राहत दिलाने में सहायक है।

बैद्यनाथ सप्तगुण तेल के फायदे

आपके लिए वैद्यनाथ सप्तगुण के फायदे वातज रोग, मोच, सूजन, जोड़ों का दर्द और गर्दन का दर्द, मध्यकर्णशोथ, बर्न्स, घावों, घाव और कट, मांसपेशियों में दर्द, बर्साइटिस, बर्साइटिस ट्रोकेनटेरिका, कंधे की अव्यवस्था का दर्द, वायरल बुखार के बाद – शरीर और जोड़ों में दर्द आदि के लिए हैं।

सप्तगुण तेल के उपयोग कैसे करें

प्रभावित क्षेत्र पर सप्तगुण तेल धीरे से लगाएं या चिकित्सक के निर्देशानुसार लगाएं। इस उत्पाद का उपयोग आपके डॉक्टर की सलाह के आधार पर 2 – 3 महीने की अवधि के लिए किया जा सकता है।

सप्तगुण तेल के नुकसान

इस उत्पाद के कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं हैं। हालाँकि, इस उत्पाद का उपयोग चिकित्सकीय देखरेख में करना सबसे अच्छा है। धूप से दूर, ठंडी सूखी जगह पर स्टोर करें। बच्चों की पहुंच और दृष्टि से दूर रखें गर्भावस्था, स्तनपान अवधि और बच्चों में इसके उपयोग के लिए अपने डॉक्टर की सलाह लें।

यह भी पढ़ें : बेहतरीन हैं क्षीरबला तेल के फायदे यहां दिए हैं नुकसान व उपयोग

गर्भावस्था के दौरान या स्तनपान

यदि आप गर्भावस्था से पहले इस तेल का उपयोग बिना किसी एलर्जी प्रतिक्रिया के कर रही थीं, तो आप गर्भावस्था के दौरान भी इस तेल का उपयोग जारी रख सकती हैं।

यदि आपने पहले इस उत्पाद का उपयोग नहीं किया है और गर्भावस्था के दौरान इसका उपयोग करना चाहती हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करना बेहतर होगा क्योंकि कुछ दुर्लभ मामलों में यह त्वचा की एलर्जी का कारण बन सकता है।

इसे आमतौर पर स्तनपान के दौरान उपयोग करना सुरक्षित माना जाता है, हालांकि सही सलाह के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

Share social media

मेरे सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार, में काफी वर्षों से पत्रकारिता में कार्य कर रहा हूं और मैंने अपनी पढ़ाई भी मास्टर जर्नलिश्म से पुरी किया है। मुझे लिखना और नए तथ्यों को खोज करना पसन्द है। मुझे नई जानकारी के लिए न्यूज पेपर की अवश्यकता नहीं पड़ती में खुद इनफॉर्मेशन हासिल करने में रुचि रखता हूं। साथ ही वेबसाईट बनाना, seo, जैसी स्किल में महारथ हासिल है।

error: Content is protected !!